Now Reading:
शर्मनाक: क्रिकेट इतिहास में बल्लेबाजी में ऐसा खराब रिकॉर्ड शायद ही किसी ने बनाया होगा
Full Article 3 minutes read

शर्मनाक: क्रिकेट इतिहास में बल्लेबाजी में ऐसा खराब रिकॉर्ड शायद ही किसी ने बनाया होगा

क्रिकेट के इतिहास में हमने बहुत से ऐसे रिकॉर्ड देखें है जिन्हें जानकार बहुत अच्छा लगता है लेकिन कई बार हमें ऐसे भी रिकॉर्ड देखने को मिलते है जिसे पढ़कर बहुत खराब महसूस होता है अगर रिकॉर्ड बनाने वाला हमारा फेवरेट खिलाड़ी हो। जी हां, हम आज आपको एक ऐसे ही रिकॉर्ड के बारे में बताने जा रहे हैं जो किसी भी बल्लेबाज के लिए शर्मनाक रिकॉर्ड है।

इन आंकड़ों के कारण कप्तान कोहली बने आईसीसी के सबसे बड़े प्लेयर और जीत गए 4 खिताब

आईये जानते है इस रिकॉर्ड के बारे में विस्तार से

क्रिकेट के इतने बड़े इतिहास में आपने बहुत से बल्लेबाजों को सबसे तेज शतक और अर्द्धशतक ठोकते हुए तो बहुतों को देखा होगा। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे भारतीय विस्फोटक बल्लेबाज के बारे में बताने जा रहे है जिन्होंने क्रिकेट इतिहास का सबसे खराब बल्लेबाजी रिकॉर्ड बनाया था। बता दें कि यह खराब वो था जब एक भारतीय बल्लेबाज ने क्रिकेट के विश्व कप के दौरान 174 गेंदों का सामना करते हुए सिर्फ 36 रन ही बना पाए थे।

कौन है वह जिसने बनाया था इतना घटिया रिकॉर्ड

टीम इंडिया के सपोर्ट में उतरा भारत का यह विस्फोटक बल्लेबाज, बोल डाली यह बड़ी बात

दरअसल आपको बता दें कि साल 1975 के विश्व कप दौरान एक मुकाबला भारत और इंग्लैंड के मध्य भी खेला गया था जिसमें इंग्लैंड की टीम ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया था और फिर इन्होंने भारत के सामने 334 रनों का बड़ा दीवार जैसा लक्ष्य दिया था। इसके बाद भारतीय क्रिकेट टीम इस लक्ष्य का पीछा करने उतरी थी और टीम की शुरुआत सुनील गावस्कर के साथ हुई थी। इस प्रकार उस मैच में गावस्कर ने बहुत ही खराब प्रदर्शन किया था भारत के आधे ओवर तो अकेले इन्होंने ही ख़त्म कर दिए थे लेकिन अपना अर्धशतक तक पूरा नहीं कर पाए थे। उस दौरान गावस्कर ने 174 गेंदों में मात्र 36 रन ही बनाए।

सिर्फ एक ही चौका लगा पाये थे गावस्कर

इसी बीच अगर हम उनकी पारी के बारे में बात करें तो इन्होंने अपनी इस पारी में केवल एक ही चौका लगा सके थे। इस मुकाबले में भारतीय टीम सिर्फ 132 रन ही बना पाई थी जिसमें भारत के तीन विकेट आउट हुए थे और यह मुकाबला टीम इंडिया को बहुत बड़े अंतर से (202 रन) से हारना पड़ा था। गावस्कर का यह रिकॉर्ड आज भी क्रिकेट के इतिहास के पन्नों में कायम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.