Now Reading:
भारत के इस गेंदबाज ने अपने अंतिम वनडे में लिए थे 5 विकेट, फिर कभी नहीं मिली जगह
Full Article 2 minutes read

भारत के इस गेंदबाज ने अपने अंतिम वनडे में लिए थे 5 विकेट, फिर कभी नहीं मिली जगह

क्रिकेट में आज हर कोई महान खिलाड़ी नहीं बन सकता क्योंकि क्रिकेटर एक नहीं बल्कि अनेक होते है और सभी यह मुकाम हासिल नहीं कर पाते है लेकिन कई ऐसे खिलाड़ी होते है जिन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया और फिर भी उन्हें बाहर कर दिया गया। दुनिया में ऐसे खिलाड़ियों की कहीं भी कमी नहीं है और ऐसे क्रिकेटर जो अगर अब तक खेलते तो संभवत कई बड़े कारनामे अपने नाम कर दिए होते लेकिन किस्मत ने साथ नहीं दिया और क्रिकेट से दूर रहना पड़ा।

©Getty Images

आज हम बात करने वाले हैं बड़ौदा में जन्मे इरफान पठान की। जी हां, एक समय था जब इरफान पठान टीम इंडिया के सबसे घातक गेंदबाजों में से एक थे, जिन्होंने साल 2004 में डेब्यू किया था। इन्होंने शुरू से ही शानदार गेंदबाजी से दुनिया भर में खूब नाम कमाया था।

© Getty Images

RECORD: हिटमैन के ये 10 रिकॉर्ड जिसके बारे में हर किसी को नहीं है पता!

पठान ने पहला एकदिवसीय मैच 9 जनवरी 2004 को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेला था। हालांकि इस मैच में इन्होंने 10 ओवर किए और कोई विकेट नहीं निकाल पाए लेकिन जब आगे बड़े तो धीरे-धीरे सबसे खतरनाक गेंदबाजों में से एक बन कर उभरे थे।

©Getty Images

2008 तक इनका करियर एकदम शानदार चलता रहा लेकिन फिर 2009 में सिर्फ 2 वनडे मैच खेलने को मिले इसके बाद 2010 में एक भी मैच नहीं खिलाया गया तो 2011 में एक और मैच खेलने का मौका मिला। लंबे अंतराल बाद 2012 में इन्हें कुछ मैच खेले और अपने आखिरी वनडे मैच में शानदार प्रदर्शन करते हुए 61 रन देकर 5 सफलताएं ली।

पहले टेस्ट में इंग्लैंड के खिलाफ इन खिलाड़ियों के साथ उतर सकती है भारतीय टीम

जी हां, आपको बता दें कि इरफ़ान पठान का आखिरी वनडे मैच 4 अगस्त 2012 को श्रीलंका के खिलाफ था। इस मैच में उन्होंने 10 ओवर में 61 रन देकर 5 विकेट लिए थे लेकिन अच्छी गेंदबाजी करने के बाद भी इसके बाद वनडे क्रिकेट में कभी कदम नहीं रख पाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.