Now Reading:
2011 विश्व कप फाइनल में धोनी की पारी का सचिन ने खोला बड़ा राज
Full Article 3 minutes read

2011 विश्व कप फाइनल में धोनी की पारी का सचिन ने खोला बड़ा राज

सचिन तेंदुलकर भारतीय क्रिकेट टीम और पूरे क्रिकेट जगत के भगवान कहे जाते हैं। उन्होंने अपने करियर में 200 टेस्ट तथा 463 वनडे मैच खेले जिसमें जबरदस्त बल्लेबाजी करते हुए 100 शतक बनाने का रिकॉर्ड भी अपने नाम किया है। ये इकलौते ऐसे बल्लेबाज हैं जिन्होंने यह कारनामा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किया है। हालांकि विराट कोहली जो वर्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान हैं वह भी इनके रिकॉर्ड को तोड़ने पर तुले हुए हैं और लगातार अच्छा प्रदर्शन करके जा रहे हैं।

मिताली राज ने बनाया भारतीय टी20 क्रिकेट में बड़ा रिकॉर्ड, विराट भी रह गए पीछे

सचिन तेंदुलकर के अलावा वीरेंद्र सहवाग भी भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज खिलाड़ियों में गिने जाते हैं जिन्होंने अपने टेस्ट करियर में एक नहीं बल्कि दो बार तिहरे शतक ठोके थे। जबकि वनडे में एक बार इन्होंने शानदार बल्लेबाजी करते हुए दोहरा शतक बनाया था।

©BCCI

ब्रॉड नहीं बल्कि इस खिलाड़ी की वजह से लगाये थे युवराज ने 6 गेंद पर 6 छक्के

काफी लंबे अरसे बाद सचिन और वीरेंद्र सहवाग को एक साथ देखा गया है। जी हां, आपको बता दें कि विक्रम साठाये के साथ ये दोनों एकसाथ नजर आए है जहां उन्होंने अपने निजी जिंदगी के बारे में काफी कुछ रोचक कहानियां बताइ है। साथ ही सचिन ने 2011 के विश्वकप का एक बड़ा खुलासा भी किया है।

सचिन के कारण धोनी उतरे थे युवराज से पहले

गौरतलब हो कि आईसीसी के 2011 के विश्व कप में युवराज सिंह ने बेहतरीन बल्लेबाजी की थी और लगभग हर मैच में वह महेंद्र सिंह धोनी से पहले ही उतर जाते थे। लेकिन फाइनल में धोनी से पहले युवराज सिंह बल्लेबाजी करने नहीं आए थे बल्कि सचिन तेंदुलकर ने धोनी को यह सलाह दी थी कि जब कोई राइट हैंड बल्लेबाज आउट होता हैं तो उनके बदले राइट हैंड ही भेजना जबकि बाएं हाथ का बल्लेबाज आउट होता है तो फिर बाएं हाथ का बल्लेबाजी भेजना था।

VIDEO: इस बल्लेबाज ने टेस्ट की पहली ही गेंद मार दिया था छक्का

उस दौरान क्रीज पर दाहिने हाथ के बल्लेबाज के रूप में विराट कोहली थे तो बाएं हाथ के गौतम गंभीर बल्लेबाजी कर रहे थे। लेकिन जैसे ही विराट कोहली आउट हुए तो धोनी ने वापस बिना कुछ पूछे ही बल्लेबाजी करने आ गए थे और उन्होंने अंत तक बल्लेबाजी की और नाबाद 91 रन बनाए और भारत को छक्के के साथ 28 वर्षों बाद विश्व कप का खिताब जिताया था। इस प्रकार सचिन तेंदुलकर के कारण ही धोनी वह विजयी छक्का मार सके थे।

यहाँ देखिये वीडियो:-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Input your search keywords and press Enter.